मोटर-साइकिल लेकर स्कूल जाने वाले नाबालिग पर चलेगा प्रशासन का डंडा, स्टूडेंट्स सुरक्षा को लेकर चिंतित दिखा मुजफ्फरनगर

Published

मुजफ्फरनगर/उत्तर प्रदेश: प्रदेश में हो रही लगातार सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए मुजफ्फरनगर के डीएम अरविंद मल्लप्पा बंगारी ने लोगों से अपील की है कि वे अपने नाबालिग बच्चों को मोटर-साइकिल से स्कूल न भेंजे। डीएम मल्लप्पा बंगारी ने जनपद के सभी स्कूल कॉलेजों के प्रिंसिपल व संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ एक बैठक ली।

बैठक में डीएम ने नाराजगी जताते हुए कहा कि दुपहिया वाहन पर नाबालिग तीन-तीन बच्चे बैठकर स्कूल जाते हैं, जो दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं। इनकी सुरक्षा को लेकर सरकार ने एक जिओ प्रशासन को भेजा है. जिसमें मानक के अनुरूप स्कूलों की बसों से ही छात्र-छात्राओं को स्कूलों में पेरेंट्स भेजें।

मॉडिफाई वहानों पर लगेगी रोक

वहीं, देखा जाता है कि छोटे हाथी को मॉडिफाई करके और ई-रिक्शा में तादाद से ज्यादा बच्चों को स्कूल भेजने पर भी रोक लगाई जाए। अगर अभिभावक पर्सनल दुपहिया वाहन से बच्चों को स्कूल छोड़ने जाते हैं, तो दुपहिया वाहन पर खुद भी हेलमेट लगाए और अपने बच्चों को भी हेलमेट लगाकर स्कूल कॉलेज छोड़ने जाएं।

डीएम के प्रिंसिपल्स को आदेश

डीएम ने प्रिंसिपल को आदेश दिए कि पेरेंट्स मीटिंग बुलाकर अभिभावकों को समझाएं जिससे स्टूडेंट्स का भविष्य सुरक्षित रह सके और सड़क दुर्घटनाएं ना। इसको लेकर डीएम गम्भीर हैं वहीं, उन्होंने स्कूल प्रसासन को सरकार के नियम ना मानने पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी।

अतिक्रमण मुक्त होगा मुजफ्फरनगर

डीएम ने जनपद में बढ़ रही जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए एक टीम गठित की और एडीएम प्रसासन नरेन्द्र बहादुर सिंह व आरटीओ व सम्बंधित अधिकारियों को बाजारों में रेहड़ी ठेले वालो की वजह से सड़क अवरोध कर अतिक्रमण हटाने व उनके लिए कंपनी बाग के सामने बनवाए गए वेंडर जॉन में भेजने व व्यवस्थित तरीके से लगवाने के लिए कड़े आदेश दिए हैं।

साथ ही 1 हफ्ते का समय दिया जिससे वेंडर जॉन में सभी अवैध रेहड़ी ठेले लगवाए जाएं और उनका लेखा जोखा भी रखा जाए। वहीं, ई-रिक्शा पर कंट्रोल को लेकर भी एआरटीओ को सख्त दिशा निर्देश दिए हैं कि ई-रिक्शा का रूट प्लान बनाया जाए और सभी रिक्शाओं को नंबरिंग दी जाए। जिससे शहर जाम से मुक्त हो सके।

डीएम ने स्कूल के प्रिंसिपलों को आदेश दिया कि सभी स्कूल प्रसासन पेरेंट्स मीटिंग कर अभिभावकों को समझाए व यातायात के नियमों का पालन करने का निर्देश भी दें। बैठक में एडीएम प्रशासन नरेंद्र बहादुर सिंह एआरटीओ व संबंधित विभागों के अधिकारी व स्कूलों के प्रिंसिपल भी मौजूद रहे।