धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री बने देश के सबसे महंगे कथावाचक! एक कथा की फीस 1 करोड़

Published
Image Source: Twitter/DhirendraKrisna

नई दिल्ली/डेस्क: छतरपुर के बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज, हाल ही में अनगिनत चर्चाओं और विचार-विमर्शों के विषय बने हैं। उनकी प्रसिद्धि हाल के दिनों में राष्ट्रभर में तेजी से बढ़ी है, जिससे विभिन्न स्तरों पर सवालों और जिज्ञासाओं का उत्त्पन्न होना तथा उनसे संबंधित विचारधाराओं को बढ़ावा मिला है।

इन सवालों में से एक मुख्य विषय है पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज द्वारा धार्मिक वाचनों और कथाओं के लिए किए जाने वाले शुल्क का। चलिए इस लेख में हम आपको बताएंगे की कथा वाचक धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dhirendra Krishna Shastri Fees) एक कथा करने का कितना पैसा लेते हैं?

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की फीस

महत्वपूर्ण यह है कि क्या धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री धार्मिक वाचनों के लिए शुल्क लेते हैं और यदि हां, तो इसके बारे में निर्णायक और आधिकारिक जानकारी उपलब्ध नहीं है। विभिन्न वेबसाइटें इस विषय पर विभिन्न जानकारी प्रदान करती हैं। कुछ वेबसाइटें दावा करती हैं कि पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री एक दिन के वाचन के लिए लगभग 10,000 से 15,000 रुपये लेते हैं, और मासिक कमाई 5,00,000 से 7,00,000 रुपये के बीच हो सकती है।

“एक कथा के लेता हूं 1 करोड़”: धीरेंद्र शास्त्री

हालांकि, एक वीडियो के आधार पर यह भी कहा जा सकता है कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री एक वाचन के लिए एक करोड़ रुपये लेते हैं। सोशल मीडिया पर प्रसारित एक वीडियो में धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री यह कहते हुए दिखाई देते हैं कि वह भारत के सबसे महंगे गुरु हैं और एक करोड़ रुपये की मांग करते हैं।

हालांकि इस वक्तव्य से प्रतित होता है कि उनका वाचन के लिए भारी मात्रा में शुल्क होता है, लेकिन उन्होंने इस वक्तव्य की पूरी संदर्भितता के साथ बोला था या मजाक में, यह स्पष्ट नहीं है।

निष्कर्ष

पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज द्वारा अपने प्रवचनों के लिए ली जाने वाली फीस का विषय रहस्यमय बना हुआ है। अलग-अलग स्रोतों और सूचनाओं के साथ, यह पता लगाना चुनौतीपूर्ण है कि वह अपनी सेवाओं के लिए कितना शुल्क लेता है।

वायरल वीडियो, दिलचस्प होने के बावजूद, निश्चित रूप से यह निर्धारित नहीं किया जा सकता कि एक करोड़ की फीस के बारे में उनका बयान एक वास्तविक दावा है या एक चंचल टिप्पणी है। जब तक जानकारी का कोई पारदर्शी और निश्चित स्रोत सामने नहीं आता, धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज की फीस का मुद्दा व्याख्या और अटकलों के लिए खुला रहेगा।

रिपोर्ट: करन शर्मा