शफीकुर्रहमान बर्क का 93 साल में निधन, पांच बार के सांसद रहे शफीकुर्रहमान बर्क

Published

नई दिल्ली/डेस्क: शफीकुर्रहमान बर्क लंबे समय से बीमार चल रहे थे. इस महीने की शुरुआत में स्वास्थ्य खराब होने के चलते उन्हें मुरादाबाद स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनका इलाज चल रहा था. समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान बर्क का मंगलवार को निधन हो गया है. वह 93 साल के थे.

संभल से समाजवादी पार्टी के 93 वर्षीय सांसद शफीकुर्रहमान बर्क का स्वास्थ्य बिगड़ने के बाद मुरादाबाद के निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. इलाज के दौरान उनकी स्थिति में सुधार हो रहा था. अचानक मंगलवार को उनकी तबीयत बिगड़ी और उन्होंने अंतिम सांस ली. मुरादाबाद की कुंदरकी विधानसभा से सपा विधायक जियाउर्ररहमान बर्क ने बताया कि सांसद की तबीयत क्रिएटिनिन बढ़ने से खराब थी. इस कारण इंफेक्‍शन बढ़ा था.

अक्‍टूबर 2023 में भी सपा सांसद की तबीयत इसी वजह से खराब हो गई थी. उस समय भी उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था. बाद में उनकी तबीयत ठीक होने के बाद अस्पताल से रिलीज किया गया. इस बार वे अस्पताल से लौट नहीं पाए.

पांच बार के सांसद रहे शफीकुर्रहमान बर्क

शफीकुर्रहमान बर्क का जन्म 11 जुलाई 1930 को उत्तर प्रदेश के संभल में हुआ था. वह समाजवादी पार्टी से लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे. शफीकुर्रहमान बर्क चार बार विधायक और पांच बार सांसद रहे हैं. उन्होंने पहली बार समाजवादी पार्टी की टिकट पर 1996 में लोकसभा चुनाव में जीत हासिल की थी. वहीं, वह 2014 में बसपा से लोकसभा चुनाव लड़े थे और जीत हासिल की थी. शफीकुर्रहमान बर्क कई बार विवादों में भी आए हैं.

वह उस समय सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने लोकसभा की सदस्यता की शपथ ली थी और वंदे मातरम इस्लाम के खिलाफ बताया था. साथ ही साथ उन्होंने कहा था कि वह इसका पालन नहीं करेंगे.

लेखक: इमरान अंसारी