एलजी और केंद्र सरकार की मिलीभगत से दिल्ली में पानी के बिलों का समाधान नहीं हो रहा: सौरभ भारद्वाज

Published

नई दिल्ली/डेस्क: दिल्ली के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने एलजी साहब से मांगा जवाब और कहा की क्या कोई सरकार वित्त विभाग के अधिकारी की टिप्पणी का इंतजार करती रहेगी? क्या सरकार मुख्यमंत्री या वित्त विभाग के मंत्री या अधिकारी चलायेंगे?

मुख्य सचिव को फिर से निर्देश दिया गया है कि या तो वित्त विभाग इस सप्ताह के अंत तक अपनी टिप्पणी दे, अगर नहीं देता है तो वित्त विभाग अपनी टिप्पणी के साथ कैबिनेट बैठक में आये.

एक महीने से ज्यादा हो गया है और अब ये बात सबके सामने आ गई है कि एलजी साहब के दबाव के कारण अधिकारी इन फाइलों पर कार्रवाई नहीं कर रहे हैं.

किसी अधिकारी के खिलाफ बार-बार शिकायत की जा रही है और फिर भी एलजी साहब उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं, तो इसका मतलब यही है कि मिलीभगत से काम किया जा रहा है।

केंद्र सरकार एलजी साहब से ऊपर है, भारतीय जनता पार्टी नहीं चाहती कि यह योजना दिल्ली के अंदर आए और इससे जनता को फायदा हो।

स्वास्थ्य विभाग में भी कुछ ऐसा ही हो रहा है, जब स्वास्थ्य सचिव ने स्वास्थ्य विभाग का पैसा रोक दिया और बार-बार सबूत के साथ पत्र लिखने के बावजूद एलजी साहब ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की है.

दिल्ली के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने केंद्र सरकार और एलजी साहब से अपील की कि वे जनता के कल्याण के लिए लिए गए फैसलों को न रोकें.