क्या होता है एथिलिन ऑक्साइड? जो MDH, एवरेस्ट के मसालों में मिला तो विदेश में लग गया बैन!

Published

सिंगापुर और हांगकांग ने हाल ही में दो लोकप्रिय भारतीय मसालों की ब्रिकी पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह कदम एथिलीन ऑक्साइड की पहचान के बाद उठाया गया है, जो कार्सिनोजेनिक कीटनाशक के रूप में जाना जाता है।

एथिलीन ऑक्साइड: क्या है ये?

एथिलीन ऑक्साइड आमतौर पर खेतों में फसल की रक्षा के लिए कीटाणुनाशक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इसका खाद्य पदार्थों में उपयोग सख्त रूप से वर्जित है। एथिलीन ऑक्साइड का उपयोग ब्रास, रेडिश, गाजर, फल, और अन्य खेती की फसलों में किया जाता है।

विवाद: मसालों में एथिलीन ऑक्साइड की मात्रा

हाल ही में, भारतीय कंपनी के एक मसाले में एथिलीन ऑक्साइड की मात्रा की आलोचना की गई। इसे कार्सिनोजेनिक के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जो स्तन कैंसर जैसे स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ाता है।

कंपनियों का प्रतिक्रिया

भारतीय मसाला ब्रांड एवरेस्ट ने इस आरोप का खंडन किया है और कहा है कि उनके सभी प्रोडक्ट्स सुरक्षित और उच्च गुणवत्ता के हैं। हांगकांग के अलर्ट के बाद, सिंगापुर ने उनके मसालों की जाँच के लिए आदेश दिया है।

लेखक: करन शर्मा