2024 से पहले टूट जाएगा AAP-कांग्रेस गठबंधन?

Published

नई दिल्ली/डेस्क: 26 विपक्षी दलों ने मिलकर एक मंच पर आकर भाजपा के खिलाफ 2024 लोकसभा चुनाव जीतने के लिए एक गठबंधन बनाया है जिसका नाम “I.N.D.I.A” है। इस गठबंधन के तहत सभी विपक्षी पार्टियां मिलकर भाजपा को सत्ता से हटाने का प्रयास कर रही हैं।

हालाँकि, दिल्ली में इस गठबंधन में दरारें दिखाई देने लगी हैं क्योंकि कांग्रेस पहले ही घोषणा कर चुकी है कि वह राजधानी की सभी लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

जिसके बाद आम आदमी पार्टी (AAP) ने 16 अगस्त को दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के मामले में एक महत्वपूर्ण बयान दिया। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस दिल्ली में अकेले लोकसभा चुनाव लड़ेगी, तो उसके साथ गठबंधन करने का कोई मतलब नहीं बनता।

कांग्रेस करेगी सभी 7 सीटों पर खुद को तैयार

आम आदमी पार्टी (AAP) का यह बयान कांग्रेस पार्टी की नेता अलका लांबा ने इस बयान के बाद आया जब उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व ने उन्हें दिल्ली में 2024 होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए सभी सात सीटों पर तैयारी करने का आदेश दिया है।

इसके बाद आम आदमी पार्टी की प्रवक्ता प्रियंका कक्कड़ ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अब AAP तय करेगी कि उसे I.N.D.I.A अलायंस की मुंबई बैठक में शामिल होना है या नहीं।

कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और राहुल गांधी ने भी बुधवार को दिल्ली के कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक की, जिसमें वलोकसभा चुनावों की तैयारियों की समीक्षा करने के तरीकों पर चर्चा की गई।

अलका लांबा ने बैठक के बाद बताया कि कांग्रेस ने उन्हें आगामी 2024 के चुनावों के पहले सभी सात सीटों पर मजबूती से काम करने के लिए आदेश दिया है। साथ ही ये भी साफ कर दिया की ‘गठबंधन होगा या नहीं’, इस पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है, लेकिन कांग्रेस सभी सीटों पर तैयार होने के बाद ही जनता के पास जाएगी।

कांग्रेस से नाराज दिखा आप का खेमा

प्रियंका कक्कड़ ने इस पर प्रतिक्रिया दी कि अगर कांग्रेस दिल्ली में अकेले चुनाव लड़ना चाहती है तो हमारा I.N.D.I.A अलायंस की बैठक में शामिल होने का कोई मतलब नहीं है।

इसलिए कांग्रेस को अपने रुख को स्पष्ट करना होगा, ताकि गठबंधन के मामले में भी स्पष्टता हो सके। आप पार्टी के नेता विनय मिश्रा ने भी इस पर अपने विचार रखे और कहा कि देश और दिल्ली की जनता के हित को ध्यान में रखते हुए किसी फैसले का निर्णय लिया जाएगा।

आप के नेता सोमनाथ भारती ने भी इस विषय पर अपने विचार साझा किए और कहा कि सभी को यह आत्मसमर्पण होना चाहिए कि देश के महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार करें।

लेखक: करन शर्मा