World No Tobacco Day 2024 : 31 मई को ही क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस? जानें इस साल की थीम और इतिहास

Published

World No Tobacco Day 2024: तंबाकू (Tobacco) का सेवन सेहत के लिए जानलेवा हो सकता है। धूम्रपान (Smoking) मानसिक स्वास्थ्य के साथ ही शारीरिक सेहत पर भी नकारात्मक असर डाल सकता है। धूम्रपान व तंबाकू के नकारात्मक प्रभाव को जानते हुए भी दुनियाभर में बड़ी संख्या में लोग किसी न किसी रूप से तंबाकू का सेवन करते हैं। बीड़ी, सिगरेट और गुटखा आदि के सेवन से कई तरह की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। धूम्रपान करने से धमनियां कमजोर होने लगती हैं और कोरोनरी हार्ट डिजीज और स्ट्रोक हो सकता है। कुछ अध्ययनों में पिछले कुछ वर्षों में वैश्विक स्तर पर बढ़े हार्ट अटैक के लिए धूम्रपान को भी एक संभावित कारक बताया गया है। इसके अलावा तम्बाकू का उपयोग से कैंसर या फेफड़े की बीमारी भी हो सकती है।

क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस?

लोगों को तंबाकू के सेवन से रोकने के लिए इससे होने वाले नुकसान के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से प्रति वर्ष दुनियाभर में विश्व तंबाकू निषेध दिवस यानी वर्ल्ड नो टोबैको डे मनाया जाता है। तंबाकू निषेध दिवस मनाने की जरूरत कब और क्यों महसूस की गई, और इस दिन का महत्व आदि के बारे में जानकर दूसरों को भी जागरूक किया जा सकता है।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का महत्व

तंबाकू का सेवन सेहत के लिए अत्यंत हानिकारक हो सकता है। धूम्रपान और अन्य तंबाकू उत्पादों का उपयोग मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। बीड़ी, सिगरेट, गुटखा आदि का सेवन करने से कई गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इनमें कोरोनरी हार्ट डिजीज, स्ट्रोक, फेफड़े की बीमारी और कैंसर जैसी घातक बीमारियां शामिल हैं। धूम्रपान से धमनियां कमजोर हो जाती हैं, जिससे हार्ट अटैक की संभावना भी बढ़ जाती है।

तंबाकू निषेध दिवस की शुरुआत

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 1987 में तंबाकू निषेध दिवस मनाने का निर्णय लिया। इसका मुख्य कारण उस समय तंबाकू सेवन से होने वाली मौतों की बढ़ती संख्या थी। 1988 में पहली बार विश्व तंबाकू निषेध दिवस अप्रैल महीने में मनाया गया। बाद में यह दिन 31 मई को मनाए जाने का प्रस्ताव पारित हुआ और तब से हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाने लगा।

तंबाकू निषेध दिवस 2024 की थीम

हर साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस की एक विशेष थीम निर्धारित की जाती है। 2023 में इस दिवस की थीम “We Need Food, Not Tobacco” थी, जिसका उद्देश्य तंबाकू किसानों को वैकल्पिक फसल उत्पादन के बारे में जागरूक करना था। इस साल 2024 की थीम “Protecting Children From Tobacco Industry Interference” यानी बच्चों को तंबाकू उद्योग के हस्तक्षेप से बचाना है। इसका उद्देश्य बच्चों को तंबाकू के हानिकारक प्रभावों से बचाने और उन्हें तंबाकू उद्योग के नकारात्मक प्रभावों से दूर रखना है।

News India की अपील

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का मुख्य उद्देश्य तंबाकू के सेवन से होने वाले खतरों के प्रति लोगों को जागरूक करना और उन्हें तंबाकू के सेवन से रोकना है। तंबाकू के हानिकारक प्रभावों को जानने और समझने के बाद हम अपने और अपने प्रियजनों के स्वास्थ्य की रक्षा कर सकते हैं। इस दिवस का महत्व और इसकी थीम लोगों को तंबाकू से होने वाले नुकसान के प्रति जागरूक करने के साथ-साथ एक स्वस्थ और खुशहाल जीवन जीने के लिए प्रेरित करती है। साथ ही न्यूज इंडिया देश व दुनिया भर के लोगों से अपील करता है कि, “आज ही तंबाकू छोड़ें… और दूसरों को भी जागरूक करें”।